December 26, 2009

Hum Hi Khatawaar Hain

Hum hi khatawaar hain

Aapka har gila chaahton ki saza

Humne maana ki hum hi khatawaar hain

Aap khamosh kyon hain bata dein zara

Humne maana ki hum hi khatawaar hain

Uljhano mein nikaloge kitne pehar

Koi masla uthao nikalo gehar

Hum sunenge tumhe banke chup ki sada

Humne maana ki hum hi khatawaar hain

Aapko chhoone ka to iraada na tha

Hum chuyenge nahin ye bhi vaada na tha

Ab jo chhoo hi liya to bata do saza

Humne maana ki hum hi khatawaar hain

Hum to mitti pe likhey huye naam hain

Hum to deewar pe rakh diye jaam hain

Ab gira dein mita dein ya banke hawa

Humne maana ki hum hi khatawaar hain

–===–

Written on 30-03-98 at 1.45AM

हम ही ख़तावार हैं

आपका हर गिला चाहतों की सज़ा

हमने माना की हम ही ख़तावार हैं

आप खामोश क्यों हैं बता दें ज़रा

हमने माना की हम ही ख़तावार हैं

उलझनों में निकालोगे कितने पहर

कोई मसला उठाओ निकालो गहर

हम सुनें आपकी, बनके चुप की सदा

हमने माना की हम ही ख़तावार हैं

आपको छूने का तो इरादा न था

हम छुएंगे नहीं ये भी वादा न था

अब जो छू ही लिया तो बता दें सज़ा

हमने माना की हम ही ख़तावार हैं

हम तो मिटटी पे लिखे हुए नाम हैं

हम तो दीवार पे रख दिए जाम हैं

अब गिरा दें मिटा दें या बनके हवा

हमने माना की हम ही ख़तावार हैं

—===—

30-3-98 रात 1.45 बजे  लिखी

Ghazal-5

Ghazal-5

Aankh mila kar tumne kehar guzara hai

Lamha lamha pighla kal ka tara hai

Buntey buntey kaise bunkar* bhool gaye

Koi hasrat, koi khawab hamara hai

Aankh milana aankh jhukana, aankhon se

Gila hai koi ya phir koi ishara hai ?

Jitney dukh hain mere hissey mein kar de

Such ka hissa saalam mehaz tumhara hai

Kaun padhega jeem ko wao ‘Kamil’ ji

Jafa wafa hai maine padh padh haara hai

-===-

*Bunkar = weaver

ग़ज़ल-५

आँख मिला कर तुमने कहर गुज़ारा है

लम्हा लम्हा पिघला कल का तारा है

बुनते बुनते कैसे बुनकर* भूल गए

कोई हसरत कोई ख्वाब हमारा है

आँख मिलाना आँख झुकाना, आँखों से

गिला है कोई या फिर कोई इशारा है?

जितने दुःख हैं मेरे हिस्से में कर दे

सुख का हिस्सा सालम महज़ तुम्हारा है

कौन पढ़ेगा जीम को वाओ ‘कामिल’ जी

जफा वफ़ा है मैंने पढ़ – पढ़ हारा है

–===–

*बुनकर = बुनने वाले [जुलाहे]

Ghazal-4

Ghazal-4

Pehle to dil mein bas gaya imaan ki tarah

Ab baat bhi karta hai to ehsaan ki tarah

Aankhon mein kai ghazalein hain honthon pe kai geet

Ye kaun hai jo hai mere deewan ki tarah

Kyun poochhta hai choomi kyun teri hatheliyan

Sach ye hai tere haath hain Q’uraan ki tarah

Ashqon ko apna maana tha us mehjabin ke baad

Aankhon mein ye bhi thehre hain mehmaan ki tarah

Khat jisko maine bheje the khawabon mein sajakar

Lauta gaya hai aaj vo samaan ki tarah

‘Kamil’ bata de duniya ko ehsaas ka rutba

Girtey ko uthati hai jo nuksaan ki tarah

–===–

ग़ज़ल-४


पहले तो दिल में बस गया ईमान की तरह

अब बात भी करता है तो एहसान की तरह

आँखों में कई ग़ज़लें हैं होंठों पे कई गीत

ये कौन है जो है मेरे दीवान की तरह

क्यों पूछता है चूमी क्यों तेरी हथेलियाँ

सच ये है तेरे हाथ हैं कुरआन की तरह

अश्कों को अपना माना था उस महजबीं के बाद

आँखों में ये भी ठहरे हैं मेहमान की तरह

ख़त जिसको मैंने भेजे थे ख्वाबों में सजाकर

लौटा गया है आज वो सामान की तरह

‘कामिल’ बता दे दुनिया को एहसास का रुतबा

गिरते को उठाती है जो नुक्सान की तरह

–===–

Ghazal-3

Ghazal-3


Mohabbat ke kissey ko jab bhi sunayein

Zara sa chhupayein zara sa batayein

Rehte nahin phool laakhon baras tak

Ye hai unki marzi vo aayein na aayein

Khud ko likhe khud kai khat dikha kar

Unhey gar banayein bigad he na jayein

Kitab-e-mohabbat mein na darz karna

Hamari wafa aur kisi ki jafayein

Mohabbat ka markaz madarsa wafa ka

Hamara bhi ghar hai kabhi aap aayein

Main roya nahin bas isee darr se ‘Kamil’

Nigahon se sapne chhalak he na jayein

–===–

Written on 09-05-98

ग़ज़ल-३


मोहब्बत के किस्से को जब भी सुनाएं

ज़रा सा छुपायें,  ज़रा सा बताएं

रहते नहीं फूल लाखों बरस तक

ये है उनकी मर्ज़ी वो आयें न आयें

खुद को लिखे खुद कई ख़त दिखा कर

उन्हें गर बनाएं बिगड़ ही न जायें

किताब-ए-मोहब्बत में न दर्ज़ करना

हमारी वफ़ा और किसी की जफ़ाएं

मोहब्बत का मरकज़ मदरसा वफ़ा का

हमारा भी घर है कभी आप आयें

मैं रोया नहीं बस इसी डर से ‘कामिल’

निगाहों से सपने छलक ही न जाएँ

–===–

09-05-98 को लिखी

Ghazal-2

Ghazal-2

Raat ka pichhla pehar hai ghar chalo

Raasta takti sahar hai ghar chalo

Ik khushi thi ho gayi rukhsat vo ab

Ghamzada saara shahar hai ghar chalo

Dil ki baatein raah mein mat bolna

Chaand apna humsafar hai ghar chalo

Aaj kaaba aur kaleesa ishq ka

Ek bas apna hi ghar hai ghar chalo

Thak gayin sadakein chaurahey so gaye

Neend mein har ik bashar hai ghar chalo

Niklo ghar se kal chhapa hoga kahin

Aaj ki taaza khabar hai ghar chalo

Ladkhadaney lag gaye hain paanv ab

Ab to ‘Kamil’ behtar hai ghar chalo

–===–

Written on 28-04-98

ग़ज़ल-२


रात का पिछला पहर है घर चलो

रास्ता तकती सहर है घर चलो

इक ख़ुशी थी हो गयी रुखसत वो अब

ग़मज़दा सारा शहर है घर चलो

दिल की बातें राह में मत बोलना

चाँद अपना हमसफ़र है घर चलो

आज काबा और कलीसा इश्क का

एक बस अपना ही घर है घर चलो

थक गयीं सड़कें चौराहे सो गए

नींद मैं हर इक बशर है घर चलो

निकालो घर से कल छपा होगा कहीं

आज की ताज़ा खबर है घर चलो

लड़खड़ाने लग गए हैं पाँव अब

अब तो ‘कामिल’ बेहतर है घर चलो

–===–


28-04-98 को लिखी

Ghazal-1

Ghazal-1

Jisko socha shayari ke vaastey

Vo mila na zindagi ke vaastey

Banke tere paon pe mitti ka ghar

Tootun main teri khushi ke vaastey

Sapne, aankhein aur lakhon hasratein

Kitne ghar ik aadmi ke vaastey

Hum jiye hain jiski khatir zindagi

Hum marenge bhi usi ke vaastey

Yun chale jaane pe sau sau kuttiyan

Lakh bosey* vaapsi ke vaastey

Aaye na ‘Kamil’ to dum chalte bane

Kaun rukta hai kisi ke vaastey

–===–

*Bosey = Kisses

Written on 06-04-98

ग़ज़ल-1

जिसको सोचा शायरी के वास्ते

वो मिला न ज़िन्दगी के वास्ते

बनके तेरे पाओं पे मिटटी का घर

टूटूं मैं तेरी ख़ुशी के वास्ते

सपने, आखें और लाखों हसरतें

कितने घर इक आदमी के वास्ते

हम जिए हैं जिसकी खातिर ज़िन्दगी

हम मरेंगे भी उसी के वास्ते

यूँ चले जाने पे सौ सौ कुट्टीयां

लाख बोसे* वापसी के वास्ते

आये न ‘कामिल’ तो दम चलते बने

कौन रुकता है किसी के वास्ते

—===—

*बोसे = चुम्बन


o6-04-98 को लिखी