December 26, 2009

Kadapa {AP} Dargah National Mushaira Ghazal

Kya Bhala Kahun Sahib Kehne Ko Bacha Kya Hai
Aap He Samajhte Hain Dil Ka Maajra Kya Hai

Kis Wajah Se Kya Kya Hai Aur Bewajah Kya Hai
Aap He Samajhte Hain Dil Ka Maajra Kya Hai

Jab Bhi Dil Ne Chaaha To Sar Jhuka Diya Maine
Waqt Pe Namazein Kya, Kya Pata Kaza Kya Hai

Aap Chahey Ghum De Dein Ya Ke Dein Khushi Mujhko
Aapse Mohabbat Hai Aapse Gila Kya Hai

Hain Meri Peshani Par Kuchh Haraf Lakeeron Ke
Jaane Meri Kismat Mein Aapne Likha Kya Hai

Soof Ke Libaason Mein Jism Kahan Rehte Hain
Duniya Ki Aaraish Se Unka Vaasta Kya Hai

Ye Khumari Hai Koi Ya Nazar Ka Dhokha Hai
Aap Aap Dikhte Hain Ye Mujhe Hua Kya Hai

Dar Pe Aapke Aakar Iss Jahan Ko Yun Dekha
Aapse Juda [Attached] Kya Hai Aapse Judaa [Detach] Kya Hai

Aap To Wali Thehre Main Tali Hun Pairon Ki
Dekh Lo Ki Pairon Mein Kaanta Sa Chubha Kya Hai

Aa Gaya Lo Phir Koi Chaaderein Chadhaney Ko
Dil He Gar Chadha Na To Sajdon Mein Dhara Kya Hai

Allah Ki Ghazal Duniya Peer Ki Nazam Sajdey
Aapne Bhi Maine Bhi Sochlein Likha Kya Hai

Ishq Ki Mizaji Se Ishq Ki Haqeeqi Tak
Paon Paon Chalney Ka Bolo Raasta Kya Hai

Aapne Banaya Hai Iss Jahaan Ko Kamil
Aur Jahaan Kehta Hai Kya Pata Khuda Kya Hai

-=-=-

KAZA- Namaz not in time, SOOF- a type of cotton used by sufi’s, AARAISH- luxury, WALI- near to God, TALI- sole of the feet

-=-=-

क्या भला कहूँ साहिब कहने को बचा क्या है
आप ही समझते हैं दिल का माजरा क्या है

किस वजह से क्या क्या है और बेवजह क्या है
आप ही समझते हैं दिल का माजरा क्या है

जब भी दिल ने चाहा तो सर झुका दिया मैंने
वक़्त पे नमाजें क्या, क्या पता कज़ा क्या है

आप चाहे दे ग़म दें या के दें ख़ुशी मुझको
आपसे मोहब्बत है आपसे गिला क्या है

हैं मेरी पेशानी पर कुछ हरफ लकीरों के
जाने मेरी किस्मत में आपने लिखा क्या है

सूफ के लिबासों में जिस्म कहाँ रहते हैं
दुनिया की आराइश से उनका वास्ता क्या है

ये .खुमारी है कोई या नज़र का धोखा है
आप आप दिखते हैं ये मुझे हुआ क्या है

दर पे आपके आकर इस जहाँ को यूँ देखा
आपसे जुड़ा क्या है आपसे जुदा क्या है

आप तो वली ठहरे मैं तली हूँ पैरों की
देख लो की पैरों में काँटा सा चुभा क्या है

आ गया लो फिर कोई चादरें चढ़ाने को
दिल ही गर चढ़ा न तो सजदों में धरा क्या है



अल्लाह की ग़ज़ल दुनिया पीर की नज़म सजदे
आपने ने भी, मैंने भी सोच लें लिखा क्या है

इश्क की मज़ाजी से इश्क की हकीकी तक
पाँव पाँव चलने का बोलो रास्ता क्या है

आपने बनाया है इस जहान को ‘कामिल’
और जहान कहता है क्या पता .खुदा क्या है

-=-=-

One response to “Kadapa {AP} Dargah National Mushaira Ghazal”

  1. Nadeem Bukhari says:

    LAJABAW

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *