December 26, 2009

Meghna

मेघ ना होने पर

भीतर बरसते हैं मेघ

माघ के महीने में

उम्मीद की कच्ची छत पर

ओस की तरह

.

सर्द रात और गुनगुनी धूप

गेहूं के दानों में दूध भर रही हो जब

तब आँखों की चादर में

सपनों की कतरने लपेट कर

मेघ ना मिलें हमें

तो कैसा लगेगा तुम्हें

.

मैं तुमसे पूछ रहा हूँ गेहूं की बाली

सुनहरी देह में घना कोहासा छिपाए

कितनी देर कंप-कंपाओगी

हवा के झोंके को पास पाकर

.

हवा का झोंका

किसान की उम्मीद !

–==–


Megh na hone par

Bheetar baraste hain megh

Maagh ke maheene mein

Umeed ki kachchi chat par

Os ki tarah

.

Sard raat aur gunguni dhoop

Gehun ke daano mein doodh bhar rahi ho jab

Tab aankhon ki chaadar mein

Sapnn ki katrane lapet kar

Megh na milein humey

To kaisa lagega tumhein

.

Main tum se pooch raha hun gehun ki baali

Sunehri deh mein Ghana kohasa chhipaye

Kitni der kanp-kanpaogi

Hawa ke jhonke ko paas paakar

.

Hawa ka jhonka

Kisan ki umeed…!

–==–

4 responses to “Meghna”

  1. Rutuja says:

    Very deep….beautiful ji…From the title again it seems that it is a love poem but poem leaves behind the small concerns and succeeds to point out about bigger and wider concerns in life. Which are not just revolves around self but world. Gr8 Writing.

  2. garima srivastav says:

    बदलती हुई ऋतु और बदलते हुये मौसम के सन्धि बिन्दु पर बूँदों के बहुमूल्य हो जाने और कोहासे भरी सर्द हवा से घिरी उम्मीद की फसल को जीना सुखद है..गेंहूँ की बालियों में दूध का उतरना स्वप्न को देह देने जैसा है…कविता में आये ताज़े बिम्ब और माटी की गंध बेहद सजीव एवं मर्मस्पर्शी हैं… सघन संवेदना वाली यह कविता वाकई काबिलेतारीफ़ है…

  3. kavita says:

    irshad SIR simply mesmerising and supersensitive..thanx for writing such deep and touching poems making a reader become sensitive while reading it..

  4. Saif Nadeem says:

    Irshad sir.. after reading so many poems of urs i have realised…
    U are a truly gifted man..
    God has given u the power to portray human emotions so nicely…
    with use of such easy words… u portray such deep meanings.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *