December 26, 2009

Sapna

सपना

ऐसा ही होना था

हालाँकि उम्मीद कम थी

मगर एक सलीके से टूट जाना था

.

हमारे बीच था जो

.

छूट जाना था कच्चा नील

देह में तुम्हारे लिए

.

उमर के खेत में हिम्मत बोनी थी

उखाड़ फैंकना था

मायूस दिनों का जंगली घास

अच्छी फसल के लिए टूट जाना था

हमारे बीच की दीवार को

छूट जाना था भरम

तुम्हारे बड़े होने का

हमारी आँख से

सभी ने देखना था

.

सपना…

.

ऐसा ही होना था

हालाँकि उम्मीद कम थी !

.

-==-

.

Sapna

Aisa hi hona tha

Halanki umeed kam thi

Magar ek saleeke se toot jaana tha

.

Hamare beech tha jo

.

Chhoot jaana tha kachcha neel

Deh mein tumhare liye

.

Umar ke khet mein himmat boni thi

Ukhaad phainkna tha

Mayus dino ka jungle ghaas

Achchi fasal ke liye toot jaana tha

Hamare beech ki deewar ko

Chhoot jaana tha bhram

Tumhare bade hone ka

Hamari aankh se

Sabhi ne dekhna tha

.

Sapna…

.

Aisa hi hona tha

Halanki umeed kam thi !

-==-

5 responses to “Sapna”

  1. Rutuja says:

    Hmmm…. beautiful melancholy……….poignant, impactful…progress of life is connected to dream as well as dreams are connected to progress. The relationship between hope and dream is also conveyed very beautifully. Nice poem.

  2. kavita says:

    SIR.. simply said deeply set the poem is another gem of your collection..

  3. garima srivastav says:

    सपने हकी़क़त में कम ही उतरते हैं इसीलिये तो वो सपने होते हैं…सपने और हसरत में एक बारीक सा फ़र्क है कि सपने ज़्यादातर नींद में आते हैं और हसरतें जागती आँखों में आती हैं…जिन्हें जीवन में अगर उतारने की कोशिश हो तो उतरती भी है…मायूस दिनों के जंगली घास को उखाड़ फेंकने की हिम्मत अगर जागती आँखों में जुट जाये तो सपने पूरे होने की राह आसान हो जाती है…भ्रम बचते नहीं, उम्मीद कम नहीं होती और अपनी आँखों का सपना सबकी आँखों का सच बन जाता है…अच्छी कविता…

  4. gurmeet says:

    बहुत अच्छे इरशाद भाई

  5. mrunalinni says:

    beautifully written as usual irshad. phrases are so earthy real..nice.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *