December 26, 2009

Suniye

Suniye

एक ख़ुशी का पौधा अंदर

धीरे धीरे फूट रहा है

दर्द हाथ से रेत के जैसे

लम्हा लम्हा छूट रहा है

.

मुझसे पहले और कोई था

उस से पहले और कोई

नाम प्यार का लेकर जाने

कितनों से वो रूठ रहा है

.

दिल, आँखें और ज़ेहन के जैसे

तीन मतलबी मिल बैठे

जाने कौन किसे और कैसे

कितना कितना लूट रहा है

.

दरगाहें नापाक हुईं वो

जहाँ साजिशें ज़ेहन रचे

सच न हो पायेगा जीना

जो अज़लों से झूठ रहा है…

-==-

Ek khushi ka paudha ander

Dheere dheere phoot raha hai

Dard haath se reit ki tarah

Lamha lamha chhoot raha hai

.

Mujhse pehle aur koi tha

Ussey pehle aur koi

Naam pyar ka lekar jaane

Kitnon se vo rooth raha hai

.

Dil aankhein aur zehan ke jaise

Teen matlabi mil baithe

Jaane kaun kisey aur kaise

Kitna kitna loot raha hai

.

Dargaahein napaak huin vo

Jahan saazishein zehan rachey

Sach na ho payega jeena

Jo azalon se jhooth raha hai…

-==-

8 responses to “Suniye”

  1. Bulbul says:

    Very nice with simple words effective statements. 2nd couplet is too good n gr8 thought. Kudos.

  2. mrunalinni says:

    kopalen phir phut aai shaakh par kehna use,
    wo na samjha hai na samjhe ga magar kehna use… … nice to see you posting a poem irshad keep writing.

  3. abrar mojeeb says:

    sare qisse eik kahani
    mere tere aankh ka pani
    lambe raste peeth ke peeche
    aage registan
    phir bhi chalne ki hai thani
    sare qisse eik kahani

  4. yuvika thakur says:

    Gd poem sir…Some words are realy dificult to knw for me…Bt poem sounds awesome, fantastic…:-)

  5. mrunalinni says:

    phir se jazbaat dastak de rahe hain,
    magar khayalaat hai ki bhatak rahe hain
    kuch pane ki kwahishon mein,
    ek un bujhisi pyaas khatm hi nahi hoti,
    zehan kuch kehta hai dil kuch or aankhein kuch
    har pal sapne dikhati hai yahi hai zindagi..

  6. Rutuja says:

    impactful & interesting ….gr8 thoughts, Irshadji gr8 of u as always ji 🙂

  7. garima srivastav says:

    दर्द हाथ से रेत की तरह फिसल जाये तो ही अच्छा है…दर्द ठहर जाये तो ज़ख्म बन जाता है और खुशी का पौधा उग आये तो दर्द अपने आप ही ओझल होने लगता है…हाँ एक बात और पौधा नहीं अंकुर फूटता है…पौधा तो बढ़ता है…प्यार का मतलब सिर्फ़ अपेक्षायें पालना नहीं होता वो तो त्याग और समर्पण की माँग करता है…प्यार ना मिलने के नाम पर रोना, रूठना, प्यार के दायरे को बहुत संकुचित कर के देखने जैसा है…सीमायें पता हों तो उसे उसके हाल पर छोड़ देना चाहिये…लूटने वाले को देखना तमाशबीन बनना गुनाह ना बन जाये इसलिये इससे पहले कि कुछ भी नापाक होने की साजिशे अपना आकार लें…हम बिना किसी शिकवे शिकायत के मंज़िल की ओर बढ़ जायें….अच्छी कविता.

  8. Saif Nadeem says:

    Mujhse pehle aur koi tha

    Ussey pehle aur koi

    Naam pyar ka lekar jaane

    Kitnon se vo rooth raha hai……

    sirf isi context me nahi… in so many contexts these lines suit correctly.
    Irshad sir u are great.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *